Breaking News

शीतला माता चौकिया के धाम भइल बा, ओकरे से पूछा….

नवरात्र में  शीतला चौकिया में  श्रद्धालुओं की भारी भीड़।

रिपोर्ट -विवेक कुमार गुप्ता।

जौनपुर के माता शीतला चैकिया का दर्शन पूर्वांचल के लोंगों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। नवरात्र में  श्रद्धालुओं की भारी भीड़ माता के दर्शन करने जौनपुर की पौराणिक शीतला माता चैकियां में उमड़ रही है आज नवरात्र  के अष्टमी के दिन सुबह से ही श्रद्धालुओ का ताता मंदिर में लगा रहा ।  ऐसी मान्यता है की किसी को माॅ विन्ध्यवासिनी का दर्शन करना है तो उसके पहले माॅ शीतला का दर्शन जरूरी है उसके बाद ही माॅ विन्ध्यवासिनी के दर्शन का महत्व है। लोगों की आस्था इस बात से भी देखी जा सकती है कि कोलकाता  , दिल्ली, मुम्बई जैसी जगहों से यहाॅ माॅ के दर्शन को खिंचे चले आते हैं।
पूर्वांचल के लोगो की आस्था का केंद्र माँ शीतला चौकिया धाम में यूॅ तो हर समय दर्शनार्थियों का आना जाना लगा रहता है लेकिन नवरात्र के अवसर पर यहाँ हजारो की  संख्या में लोग अपनी मनोकामना लेकर माता के दर्शन को आते है | लोगो की मन्यता है की  माता शीतला का दर्शन करने के बाद ही माॅ विन्ध्यवासिनी का दर्शन किया जाता है। सुबह से ही भक्तों का सैलाब़ माॅ शीतला चैकिया के दर्शन को कतार लगाए खड़ा हो गया है। माता की एक झलक पाने  के लिए लोग ललायित दिख रहे है |  माता शीतला की महिमा से हर किसी को इतनी श्रद्धा  है कि यहाॅ खड़ा हर श्रद्धालू अपनी-अपनी मनोकामना की पूर्ती के लिए हाथ जोड़ घंटों बैठे प्रार्थना करता रहता है। माता के दर्शन को आने वालों का विश्वास इतना अटल है कि उनको पता है यहाॅ आने का मतलब हर मनाकामना की पूर्ति होना है।
–  हजारो साल पुराने इस पौराणिक मंदिर में हर साल लाखो की संख्या में श्रद्धालु आते है और माता के दरबार में कढाई चढाते है और बच्चो का मुंडन संस्कार भी कराते है | ऐसी मान्यता है कि मंदिर के पास बने तालाब में नहाने से कुष्ट जैसे रोग से छुटकारा मिल जाता है  | अगर आप को माॅ विन्ध्यवासिनी के दर्शन को जाना हो तो उससे पहलेे जौनपुर की माता शीतला चैकिया के दर्शन जरुरी  है। माता के दर्शन कर लेने के बाद श्रद्धालुओं की आगे की यात्रा के सफल होने की गारन्टी हो जाती है। इसीलिए वाराणसी, सोनभद्र, बलिया, आजमगढ़, गाजीपुर, गोरखपुर जैसे पूर्वांचल के जिले से श्रद्धालू जब माॅ विन्ध्यवासिनी के दर्शन को निकलते हैं तो पहले माता शीतला के दर्शन कर के ही अपनी यात्रा आगे बढ़ाते है
नवरात्र के दिनों में तो पूजा-पाठ और व्रत का खास महत्व है ही लेकिन माॅ शीतला के दर्शन के बिना जौनपुर और दूर-दराज के जिलों के श्रद्धालू अपनी भक्ती को पूर्ण नहीं पाते।

About ekhlaquekhan

2 comments

  1. Very neat article post.Really thank you! Great.

  2. I just want to say I am just very new to weblog and truly enjoyed your web-site. Almost certainly I’m want to bookmark your site . You absolutely have very good article content. Appreciate it for sharing your web-site.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

x

Check Also

नही रहे महाकवि गोपालदास नीरज

एखलाक खान expresssamachar.com   हिंदी ...

सरकारी तंत्र की उपेक्षा कहीं प्राइवेट हाथों में देने की साजिश तो नहीं?

शाहगंज (जौनपुर) गुलाम साबिर expresssamachar.com ...

शशि थरूर का विवादित बयान और “हिन्दू पाकिस्तान”

फज़लूर्रहमान शैख़ expresssamachar.com पूर्व केन्द्रीय ...

स्वच्छ भारत अभियान को पलीता लगाता स्वास्थ्य महकमा

शाहगंज (जौनपुर) गुलाम साबिर expresssamachar.com ...

सचिन और धोनी से भी ज्यादा संघर्ष की भट्ठी में तपे लड़के की कहानी

नई दिल्ली। नवनीत मिश्रा Expresssamachar.com ...

%d bloggers like this: