Breaking News

ज़िन्दगी की तलाश में मौत के कितने पास आ गये

खाड़ी पार देश मे आठ माह से बंधक बनाये गये युवक को पुलिस ने 36 घण्टे में कराया वापिस

कबूतर बाजों ने अपने जाल में फँसा कर बनाया शिकार विदेश भेजने के नाम पर किया ठगी

खेतासराय(जौनपुर)15 मई :-स्थानीय पुलिस ने एक ऐसे निर्धन परिवार को न्याय दिलाया जिसकी कोई कल्पना ही नही कर सकता है। गाजीपुर जनपद के करंडा थाना क्षेत्र के पहाड़पुर गाँव निवासी वसीम अकरम पुत्र रियाजुद्दीन 24 वर्ष स्नातक करके कम्प्यूटर कोर्स करने के बाद छोटी – मोटी नौकरी की तलाश में था। जिससे वह अपने परिवार की गरीबी में कुछ आर्थिक सहयोग कर सके और अपने दम पर परिवार को निर्धनता के दल – दल से बाहर निकाले। इसी दौरान इसके दूर दराज के मौसा आज़मगढ़ निवासी परवेज़ अख्तर से हुई और मौसा ने सऊदी अरब जाने की सलाह दी और वह स्वंय भी रहता है। मौसा के मित्र खेतासराय थाना क्षेत्र के बरंगी गाँव निवासी आरिज़ पुत्र रिजवान के माध्यम से एक लाख दस हज़ार नकदी वीज़ा का पैसा देकर विदेश चला गया किसी तथाकथित कम्पनी में एकाउंटेंट के पद पर और वहाँ जाकर युवक को बंधक बना लिया गया। पासपोर्ट ले लिया गया और सैलेरी देना तो दूर की बात खाने पीने के लिए तरस रहे युवक को एक कमरे में बन्द कर दिया गया। तथा यातनाये दी जाने लगी मजबूर युवक के बार – बार कहने पर उसे उसके घर भी नही भेजा गया। घर भेजने के नाम पर 70 हज़ार और वसूला गया टिकट के लिए उक्त रकम पीड़ित की माँ ने अपने ज़ेवर बेच कर किसी तरह अदा की और उसे वापिस भी नही भेजा गया। इस दौरान आठ माह से परिवार वालों से कोई संपर्क नही हुआ। तब परिवार किसी अनहोनो की आशंका जताने लगा। 8 माह बाद किसी तरह से परिवार से संपर्क हुआ तो अपनी आपबीती सुनाई तो माता पिता बेचैन हो उठे और पुत्र मोह में इधर उधर भागना दौड़ना शुरू किये। जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक सहित देश व प्रदेश के आलाधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई गाजीपुर निवासी भारत सरकार में रेल राज्य मंत्री मनोज सिंह , विदेश मंत्री सुषमास्वराज विदेश मंत्रालय भारतीय दुतावास तक चक्कर काट लिया। लेकिन वही ढाक के तीन पात साबित हुआ हल कुछ नही निकला। थक हार के परिवार वालों के पास कोई विकल्प भी नही था। आँसूओं के सिवाय आखरी बिना उम्मीद के एक सप्ताह पहले खेतासराय पीड़ित के माता – पिता आ पहुँचे और रोने के सिवा उनके पास कहने को कुछ नही बचा था। किसी तरह अपनी आप बीती थानाध्यक्ष खेतासराय योगेन्द्र सिंह को बताई तो उन्होंने संतोष जनक आश्वाशन देकर परिवार को वापिस भेज दिया और मामले को गंभीरता से लेते हुये पीड़ित को न्याय दिलाने के लिए मयफोर्स निकल पड़े और बरंगी गांव पहुँच कर गिरोह के सरगना आरिज़ के परिवार पर पुलिसिया दबाव बनाया और 24 घण्टे का अल्टीमेटम दिया। इस कार्यवाही से विदेश में रह रहे गिरोह में हड़कम्प मच गया और 36 घण्टे बाद वसीम अकरम सह सम्मान अपने घर पहुँच गया। मंगलवार को पूरा परिवार धन्यवाद देने खेतासराय थाने पहुँचा और 10 माह बाद विदेश से घर लौटे पीड़ित ने आपबीती सुनाई तो बेटे को परिवार के बीच पा के पूरे परिवार की आँखों मे खुशी के आँसू छलक पड़े। पुलिस की पूरी टीम को सह्रदय धन्यवाद दिया। अपनी कार्यशैली से जनता का विश्वास खोने वाली पुलिस अगर इसी तरह मामले का वर्क आउट करती रही तो बहुत जल्द ही अपनी खोई हुई शाख वापिस पा सकती है तथा जनता का विश्वास जीत सकती है। इस कार्य से क्षेत्र में चहुओर पुलिस की सराहना हो रही है।

About adminfahad

x

Check Also

नही रहे महाकवि गोपालदास नीरज

एखलाक खान expresssamachar.com   हिंदी ...

सरकारी तंत्र की उपेक्षा कहीं प्राइवेट हाथों में देने की साजिश तो नहीं?

शाहगंज (जौनपुर) गुलाम साबिर expresssamachar.com ...

शशि थरूर का विवादित बयान और “हिन्दू पाकिस्तान”

फज़लूर्रहमान शैख़ expresssamachar.com पूर्व केन्द्रीय ...

स्वच्छ भारत अभियान को पलीता लगाता स्वास्थ्य महकमा

शाहगंज (जौनपुर) गुलाम साबिर expresssamachar.com ...

सचिन और धोनी से भी ज्यादा संघर्ष की भट्ठी में तपे लड़के की कहानी

नई दिल्ली। नवनीत मिश्रा Expresssamachar.com ...

%d bloggers like this: