Breaking News

रीस्लग जेल मे नही हुई मिलाई जेलर ने सोनी को मौत की खबर सुनाई

लखीमपुर-खीरी

रिपोर्रटर: नीरज अवस्थी

जेल मे नही हुई मिलाई जेलर ने सोनी को मौत की खबर सुनाई

अंग्रेजों के जमाने की जेलो की तरह जेल में निरूध्द कैदियों से दुर्व्यवहार एवं लापरवाही का कोई पहला मामला नही है। इससे पहले जेल प्रशासन की लापरवाही से असमय ही कई लोगों की जाने जा चुकी है। मगर चाँदी की खनखनाहट में डूबा जेल प्रशासन अपने रवैये में बदलाव लाना नही चाहता जबकि प्रदेश के मुखिया ने प्रदेश की कमान संभालते ही भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने एव भ्रष्ट अधिकारियों को सुधरने की नसीहत दी थी। किन्तु भ्रष्ट अधिकारी व कर्मचारी सरकार की साख पर बट्टा लगाने से बाज नहीं आ रहे हैं।

गौरतलब हो कि थाना मैलानी इलाके के कस्बा कुकरा निवासी जावेद पुत्र लाल को पुलिस ने गो-वध निवारण अधिनियम व पशु क्रूरता अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कर उसके घर दंबिश देना शुरू किया। जिसपर आरोपी ने न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया। लेकिन किसे क्या पता कि जेल जाने के बाद वह लौटकर नही आएगा।

मृतक के परिजनों ने मृतक व उसकी पत्नी सोनी को पुलिस की कारवाही से रूबरू कराते हुए बताया कि पुलिस उसकी तलाश कर रही है। मृतक ने अपने भट्ठा मालिक से कुछ पैसे उधार लेकर लखीमपुर आया और न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया जहाँ से उसे न्यायिक अधिकारी दृारा जिला कारागार में निरूध्द कराया गया।

मृतक की पत्नी सोनी का आरोप है कि उसका पति व वह घर से सैकड़ों किमी. दूर ईट भट्ठे पर ईट पथाई का काम करके अपने दोनों बच्चों का पेट पाल रहे थे। पैसे के अभाव में वह अपने पति से 14 मई के बाद रविवार को मिलाई करने जिला कारागर गई थी जहाँ पर मिलाई पर्ची लगाने के बाद जब मिलाई का नम्बर आया तो अंग्रेजों के जमाने के जेल हुक्ममरानों ने उसे यह कहकर जिला अस्पताल भेज दिया गया कि उसके पति का इलाज चल रहा है। जेल पहुंचने पर डाक्टरों ने बताया जब उसके पति को लाया गया था तो उसके पति की मौत हो चुकी थी। इतना सुनते ही सोनी पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा। सोनी के सामने दोनो बच्चों का पेट भरना व पोषण करना लोहे के चने के चबाने जैसा लग रहा।

फिलहाल गरीब परिवार के बिखरने का दुख किसी को नही रहा। जेल प्रशासन ने कागजी कार्रवाई करते हुए मौत की सूचना परिजनों को देकर अपने कर्तव्यों की इतिश्री हासिल करने का काम कर लिया। लेकिन जेल में अचानक तबियत खराब होने का कारण क्या रहा? यह सवाल कई सवाल खड़े कर रहा है।

About adminfahad

x

Check Also

नही रहे महाकवि गोपालदास नीरज

एखलाक खान expresssamachar.com   हिंदी ...

सरकारी तंत्र की उपेक्षा कहीं प्राइवेट हाथों में देने की साजिश तो नहीं?

शाहगंज (जौनपुर) गुलाम साबिर expresssamachar.com ...

शशि थरूर का विवादित बयान और “हिन्दू पाकिस्तान”

फज़लूर्रहमान शैख़ expresssamachar.com पूर्व केन्द्रीय ...

स्वच्छ भारत अभियान को पलीता लगाता स्वास्थ्य महकमा

शाहगंज (जौनपुर) गुलाम साबिर expresssamachar.com ...

सचिन और धोनी से भी ज्यादा संघर्ष की भट्ठी में तपे लड़के की कहानी

नई दिल्ली। नवनीत मिश्रा Expresssamachar.com ...

%d bloggers like this: